14 March 2016

रोहिणी है गुस्से से लाल

रोहिणी है गुस्से से लाल
बोली चाँद से
तुम यहाँ हर महीने तो आते हो
लेकिन मुझसे कभी मिल नहीं पाते हो 
यु ही आगे बढ़ जाते हो
चाँद ने कहा
मुझे तो सब से मिलना है
सिर्फ तुम ही नहीं हो आकाश में ।
फिर ऐसा मौका भी आया
जब चाँद रोहिणी से मिलने आया
चाँद जब मिला तो
घंटे भर रोहिणी के साथ रह पाया
न जाने उसका गुस्सा कम हुआ या नहीं
पर तब उसका चेहरा लाल तो न दिख पाया।
लेकिन चाँद फिर चल दिया अपने रस्ते
और अब फिर से
रोहिणी है गुस्से से लाल ।
Context: Occultation of Aldebaran by Moon, 14 March 2016

No comments:

Post a Comment